Tuesday, April 16, 2024
Home एजुकेशन JALANDHAR: मेहर चंद पॉलिटेक्निक कॉलेज ने प्लेटिनम जुबली वर्ष में रखा कदम

JALANDHAR: मेहर चंद पॉलिटेक्निक कॉलेज ने प्लेटिनम जुबली वर्ष में रखा कदम

by News 360 Broadcast

न्यूज़360ब्रॉडकास्ट(जालंधर/एजुकेशन)

जालंधर: शहर के मेहरचंद पॉलिटेक्निक कॉलेज ने आज 1 जनवरी 2024 को अपनी स्थापना के 70 वर्ष पूरे करते हुए अपने प्लैटिनम जुबली वर्ष में प्रवेश किया है। इस अवसर पर कॉलेज प्राचार्य डाॅ. जगरूप सिंह ने कहा कि इस कॉलेज की स्थापना 1954 में हुई थी और आज 2024 में इसने सफलतापूर्वक अपने छात्रों की आशाओं और सपनों को पूरा किया है और अपनी 70 साल की यात्रा के निरंतर चरण को गरिमा के साथ पूरा किया है। इस अवसर पर समूह स्टाफ ने प्रिंसिपल डाॅ.जगरूप सिंह और एक-दूसरे को बधाई दी और मुंह मीठा कराया। इस आयोजन में समस्त स्टाफ सदस्यों ने भाग लिया।

प्राचार्य डाॅ. जगरूप सिंह ने इस अवसर पर स्टाफ को संबोधित करते हुए कॉलेज की उपलब्धियों का जिक्र किया और उन्हें अपने कर्तव्यों को तन-मन-धन से निभाने के लिए प्रोत्साहित भी किया। उन्होंने डीएवी प्रबंधन अध्यक्ष पूनम सूरीजी, उपाध्यक्ष जस्टिस एनके सूद, सचिव अरविन्द घई, सचिव अजय गोस्वामी, श्री कुन्दनलाल अग्रवाल को बधाई दी तथा उनसे सदैव मार्गदर्शक बने रहने का अनुरोध भी किया। उन्होंने कहा कि इन वर्षों के दौरान इस कॉलेज को निटर चंडीगढ़ द्वारा चार बार उत्तर भारत के सर्वोत्तम पॉलिटेक्निक के रूप में सम्मानित किया गया है और इसी तरह देश के कई संस्थानों ने इसकी उत्कृष्ट गुणवत्ता के लिए संस्था को पुरस्कार और सम्मान दिया है।

इस अवसर पर पूरा स्टाफ खुशी से झूम रहा था और उन्होंने अपने हाथों में “प्लैटिनम जुबली” वर्ष के बैनर थाम रखे थे। स्टाफ की खुशी उनके चेहरों से साफ छलक रही थी। ऐसा लग रहा था जैसे वे किसी शादी में शामिल हुए हों या उन्हें स्नातक की डिग्री मिली हो। प्रिंसिपल साहब ने कहा कि इस कॉलेज से छात्रों को लाखों रुपए की छात्रवृत्ति दी जा रही है।

इस डीएवी संस्था का उद्देश्य है कि कोई भी छात्र पैसे के कारण गुणवत्तापूर्ण तकनीकी शिक्षा से वंचित न रहे। इस मौके पर सभी स्टाफ सदस्यों ने शपथ ली कि वे अपने छात्रों को कौशल और ज्ञान प्रदान करने में 100 प्रतिशत योगदान देंगे और मिलकर अपने लक्ष्य को प्राप्त करेंगे ताकि यह कॉलेज न केवल उत्तर भारत में बल्कि पूरे भारत में एक शीर्ष संस्थान बन सके।

You may also like

Leave a Comment