Monday, April 15, 2024
Home एजुकेशन देश की सुरक्षा में लड़कियां भी बन सकेंगी भागीदार, मथुरा में खुला देश का पहला बालिका सैनिक स्कूल

देश की सुरक्षा में लड़कियां भी बन सकेंगी भागीदार, मथुरा में खुला देश का पहला बालिका सैनिक स्कूल

by News 360 Broadcast

न्यूज़ 360 ब्रॉडकास्ट(देश/एजुकेशन)

मथुरा: मथुरा के वृन्दावन में देश का पहला लड़कियों का सैनिक स्कूल खुल गया है। जिसका उद्घाटन नए साल पर 2 जनवरी को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा किया गया है। जानकारी के अनुसार इस संविद गुरुकुलम सैनिक स्कूल में 870 छात्राएं पढ़ेंगी। इसी महीने की 21 जनवरी को इस स्कूल में एंट्री पाने के लिए लिखित परीक्षा रखी गई है, जिसमें बाद टेस्ट में पास हुए अभ्यर्थियों की ई-काउंसिल‍िंग होगी और फिर मेरिट लिस्ट के आधार पर सैनिक स्कूल में उनका एडमिशन होगा। यह परीक्षा स्कूल में 120 सीटों के लिए करवाई जाएगी। स्कूल में एडमिशन अन्य सैनिक स्कूलों की तरह 6वीं और 9वीं कक्षा में ही होगी।

इस साल अप्रैल से पहले सेशन की शुरुआत हो जाएगी। जिसमें छात्रों के 3 बैच बनाए जाएंगे। इस स्कूल में बच्चियों को सीबीएसई पाठ्यक्रम की शिक्षा के साथ-साथ सैन्य शिक्षा, खेलकूद और बाधा प्रशिक्षण कराया जाएगा। जिसकी ट्रेनिंग उनको पूर्व सैनिकों और एनसीसी की तरफ से दी जाएगी। बता दें कि यह स्कूल महिला सुरक्षा, सम्मान और आत्मनिर्भरता की दिशा में मिशन शक्ति एक शानदार उदाहरण है

वहीं अगर स्कूल में सुविधाओं की बात करें तो यहां विद्यार्थियों के लिए सैनिक स्कूल सोसायटी द्वारा तय मानकों के आधार पर बाधा प्रशिक्षण के लिए मैदान तैयार कराया जाएगा। स्कूल में स्केट‍िंग, बॉलिवॉल, रायफल शूट‍िंग, घुड़सवारी भी बालिकाओं को कराई जाएगी। अगर उनके डेली रूटीन की बात तो यहां पर चयनित लड़कियों की दिनचर्या सुबह पांच बजे से रात 10 बजे तक रहेगी। बता दें कि देश में पहले सैनिक स्कूल की स्थापना 1961 में वी.के. कृष्ण मेनन ने की थी। जो देश के चौथे रक्षामंत्री थे।

You may also like

Leave a Comment