ई-कॉमर्स में उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा हो सकेगी? - News 360 Broadcast

ई-कॉमर्स में उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा हो सकेगी?

Listen to this article

न्यूज़ 360 ब्रॉडकास्ट (सतपाल शर्मा ,एडिटर ): Will the interests of consumers be protected in e-commerce? :भारत में ई कॉमर्स का बाजार तेज गति से विकसित हो रहा है लेकिन उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा के लिए नियमावली नहीं बनाई गई थी। भारत का उपभोक्ता मंत्रालय किस और सक्रिय हुआ है यह एक सही फैसला है। भारत में एक ऐसी व्यवस्था बनाई जा रही है जो कि ऑनलाइन वस्तुओं की खरीदारी करने वाले उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा एवं जागृति के लिए कार्य करेगी। भारत में तमाम उपभोक्ता उत्पाद खरीदने से पहले उनकी समीक्षा पढ़ते हैं, क्या यह समीक्षा सही होती है? इन सभी बिंदुओं पर भारत में नई व्यवस्था कार्य करेगी।
मैं 360 ब्रॉडकास्ट मीडिया के उपभोक्ताओं को बताना चाहता हूं कि उपभोक्ता कार्य विभाग के सचिव रोहित कुमार सिंह ने अपने विभाग और भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ भारतीय मानक (आईएस) 19000:2022 ‘ऑनलाइन उपभोक्ता समीक्षाएं – उनके संग्रह, मॉडरेशन तथा प्रकाशन के लिए सिद्धांत एवं आवश्यकताओं की रूपरेखा का शुभारंभ किया है। ये मानक हर उस ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर लागू होंगे, जहां पर भी उपभोक्ता समीक्षाएं (कस्टमर रिव्यू) प्रकाशित की जाती हैं। मानक शुरू में सभी ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म द्वारा अनुपालन के लिए स्वैच्छिक होंगे। इस पहल का पूर्ण आकलन करने के लिए बीआईएस 15 दिनों के भीतर मानक के लिए एक अनुरूपता मूल्यांकन योजना भी तैयार करेगा। किसी संस्था द्वारा मानकों के उल्लंघन को एक अनुचित व्यापार व्यवहार या उपभोक्ता अधिकारों का हनन माना जा सकता है और एक उपभोक्ता ऐसी शिकायतों को राष्ट्रीय उपभोक्ता हेल्पलाइन, उपभोक्ता फोरम या फिर सीसीपीए को प्रस्तुत कर सकता है। मानक संगठन की जिम्मेदारियों के लिए कई चीज़ें प्रदान करता है, जिनमें अभ्यास का एक कोड विकसित करना और नियमों एवं शर्तों जैसी पहुंच देना आदि शामिल हैं, हालांकि मानदंड तथा सामग्री सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक शर्तों में वित्तीय जानकारी आवश्यक नहीं है। मानक ईमेल पते के माध्यम से ‘समीक्षा लेखक का सत्यापन’, टेलीफोन कॉल या एसएमएस द्वारा पहचान, एक लिंक पर क्लिक करके पंजीकरण की पुष्टि, कैप्चा सिस्टम आदि का उपयोग करके समीक्षा लेखक की प्रामाणिकता की जांच करने के तरीकों के लिए भी प्रदान करता है। मॉडरेशन के संबंध में, मानक स्वचालित और मैन्युअल मॉडरेशन दोनों के लिए प्रदान किये जाते हैं और समीक्षा सामग्री का विश्लेषण करने के लिए जांच के अवसर प्रदान करता है। प्रकाशन के संबंध में, मानक में प्रकाशन प्रक्रिया के समय तथा प्रकाशन प्रक्रिया के बाद समीक्षा प्रशासक के विचार शामिल किये जाते हैं। इसके लिए समीक्षा की सटीकता, डिफ़ॉल्ट प्रदर्शन और रेटिंग के वेटेज को प्रकाशन प्रक्रिया में परिभाषित किया गया है। मानक से ई-कॉमर्स पारिस्थितिकी तंत्र में सभी हितधारकों यानी उपभोक्ताओं, ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म, विक्रेताओं आदि को लाभ होने की उम्मीद है। यह उपभोक्ताओं के बीच ऑनलाइन सामान खरीदने के लिए विश्वास पैदा करने में मदद करेगा और उन्हें बेहतर खरीद निर्णय लेने में मदद करेगा।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)