दीपावली क्यों मनाई जाती है - News 360 Broadcast
दीपावली क्यों मनाई जाती है

दीपावली क्यों मनाई जाती है

Listen to this article

News 360 Broadcast: दीपावली क्यों मनाई जाती है

भारत त्योहारों का देश है यहां कई प्रकार के त्योहार पूरे साल ही मनाये जाते है लेकिन दीपावली सबसे बड़े त्योहारों में से एक है यह त्यौहार 5 दिनों तक चलने वाला सबसे बड़ा पर्व होता है। इस त्यौहार का बच्चों और बड़ों सभी को पूरे साल इंतजार रहता है कई दिनों पहले से ही इस उत्सव को मनाने की तैयारियां शुरू हो जाती हैं।

दीपावली का इतिहास रामायण से जुड़ा हुआ है ऐसा माना जाता है कि श्री रामचंद्र जी ने लंकापति रावण का वध कर माता सीता को रावण की लंका से आज़ाद करबाया था तथा फिर माता सीता की अग्नि परीक्षा लेकर 14 वर्ष का वनवास व्यतीत कर अयोध्या वापस लौटे थे , जिस के उपलक्ष में अयोध्या वासियों ने दीप जलाए थे तभी से दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है।

दीपावली क्यों कब और कैसे मनाई जाती है ?

इस दिन भगवान श्री राम माता सीता और भाई लक्ष्मण 14 वर्ष का वनवास पूरा करके अपने घर अयोध्या लौटे थे। तीनों के इतने सालों बाद घर लौटने की खुशी में सभी अयोध्या वासियों ने दीप जलाकर उनका स्वागत किया था तभी से दीपों का त्योहार दीपावली मनाया जाने लगा। यह त्यौहार कार्तिक मास की अमावस्या के दिन मनाया जाता है अमावस्या की अंधेरी रात असंख्य दीपों से जगमगाने लगती है । यह त्यौहार लगभग सभी धर्म के लोग मनाते हैं इस त्यौहार के आने के कई दिन पहले से ही लोग अपने घरों की साफ़ सफाई और सजावट शुरू कर देते है। लोग दीपावली पर पहनने के लिए नए कपड़े वनबाते हैं,मिठाइयां बनाई जाती हैं और एक दूसरे को बांटी जाती है। इस दिन देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है इसलिए उनके आगमन और स्वागत के लिए घरों को सजाया जाता है।

यह त्यौहार 5 दिनों तक मनाया जाता है धनतेरस से भाई दूज तक यह त्यौहार चलता है। धनतेरस के दिन व्यापारी अपने नए वही खाते बनाते हैं अगले दिन नरक चौदस के दिन सूर्योदय से पूर्व स्नान करना अच्छा माना जाता है। अमावस्या यानी कि दिवाली का मुखिया दिन , इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है खील – पताशे का प्रसाद चढ़ाया जाता है। नए कपड़े पहने जाते हैं और फूलजड़ी, पटाखे आदि चलए जाते हैं इस दिन दुकानों और घरों की सजावट दर्शनीय रहती है। अगला दिन परस्पर भेंट का दिन होता है एक दूसरे के गले लग कर दीपावली की शुभकामनाएं दी जाती हैं। लोग छोटे – बड़े ,अमीर – गरीब का वेद भूल कर आपस में मिलजुल कर यह त्यौहार मनाते हैं। दीपावली का त्योहार सभी के जीवन को खुशी प्रदान करता है नया जीवन जीने का उत्साह प्रदान करता है कुछ लोग इस दिन जुआ खेलते हैं। जोकि घर व समाज के लिए बड़ी बुरी आदत है, हमें इस बुराई से बचना चाहिए। पटाखे सावधानीपूर्वक छोड़ने चाहिए इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि हमारे किसी भी कार्य एवं व्यवहार से किसी को भी दुख ना पहुंचे तभी दीपावली का त्यौहार मनाना सार्थक होगा।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)