पुरुषों के मानसिक स्वास्थ्य को अक्सर बांझपन के कारणों में नजरअंदाज कर दिया जाता है: डॉ. अखिल प्रीत सिंह विर्क - News 360 Broadcast
पुरुषों के मानसिक स्वास्थ्य को अक्सर बांझपन के कारणों में नजरअंदाज कर दिया जाता है: डॉ. अखिल प्रीत सिंह विर्क

पुरुषों के मानसिक स्वास्थ्य को अक्सर बांझपन के कारणों में नजरअंदाज कर दिया जाता है: डॉ. अखिल प्रीत सिंह विर्क

Listen to this article

जालंधर: जून 2022 स्थानीय श्री गुरु रविदास चौक के पास विक आईवीएफ केंद्र जालंधर में पुरुषों में इनफर्टिलिटी बढ़ने के कारणों की जानकारी देते हुए डॉ. अखिल प्रीत सिंह विर्क (फेलोशिप इन एम्ब्रियोलॉजी) ने कहा कि इनफर्टिलिटी पुरुषों और महिलाओं दोनों को समान रूप से प्रभावित करती है। यह एक ऐसी समस्या है जो पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित करती है फिर भी अक्सर महलाओं को लक्ष्य बनाया जाता है, शायद इसलिए कि उसी के शरीर को आईवीएफ जैसे उपचार दिए जाते हैं और यह उसी का शरीर है जो जन्म देता है। उन्होंने यह भी कहा कि एक शोध के अनुसार लगभग 50 प्रतिशत मामलों में दंपत्ति में बांझपन का मुख्य कारण पुरुषों में शुक्राणुओं की कमी है। अन्य कारण जैसे बीमारियाँ, चोट लगना, गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं, खराब जीवनशैली जैसे शारीरिक गतिविधियों की कमी, मोटापा, धूम्रपान, अनियमित नींद, मानसिक तनाव, प्रदूषण, सेल फोन का इस्तेमाल आदि इनफर्टिलिटी के बढ़ने के लिए जिम्मेदार हैं। तनाव को भी आमतौर पर बांझपन के मुख्य कारणों में से एक के रूप में उद्धृत किया जाता है जो इसमें योगदान देता है।

उन्होंने और जानकारी देते हुए कहा कि आजकल तनाव हमारे जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बन गया है। तनाव को स्पष्ट रूप से समझने के लिए किसी व्यक्ति की भावनात्मक या शारीरिक प्रतिक्रियाओं का उल्लेख किया जा सकता है और कभी-कभी ये स्थितियां व्यक्तिगत नियंत्रण से बाहर हो जाती हैं जिससे बहुत अधिक तनाव हो सकता है। तनाव किसी भी समाज का एक प्रमुख हिस्सा है और सामाजिक दबावों, उपचार के लिए की जाने वाली जांच, असफलताएं, अधूरी इच्छाओं के कारण बांझपन अपने आप में एक बड़ा तनाव है। जीवन में अलग-अलग समय पर तनाव महसूस करना और माँ बनने की कोशिश करना आम बात है। तनावपूर्ण होना कोई अपवाद नहीं है। यह विशेष रूप से सच है जब आप माता-पिता बनने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

अब अच्छी खबर यह है कि तनाव से संबंधित बांझपन के मुद्दों या आमतौर पर तनाव के बाहरी कारणों का इलाज किया जा सकता है। यह तभी संभव है जब व्यक्ति का तनाव कम करने के तरीकों से इलाज किया जाए और जीवनशैली में बदलाव किया जाए।

डॉ. अखिल प्रीत सिंह विर्क ने तनाव कम करने के लिए कुछ नुक्ते सांझे किये हैं जो इस प्रकार हैं; सक्रिय रहें; व्यायाम तनाव को कम करने में बहुत मददगार होता है। ऐसी गतिविधि चुनें जिसे आप लगातार करना पसंद करते हैं और जारी रखना चाहते हैं। तनाव और चिंता को कम करने के लिए सक्रिय रहना महत्वपूर्ण है। यह आपके नींद चक्र को नियंत्रित करने में भी मदद कर सकता है जो तनाव के स्तर को नियंत्रित करता है।

अपने काम का बोझ हल्का करें
समस्याओं पर काबू पाने का मतलब यह नहीं है कि आप काम के भार को हल्का करना नहीं जानते हैं। काम या घर पर कुछ कार्य दूसरों को सौंपने की कला भी सीखें।

अंत में डॉ, अखिल प्रीत सिंह विर्क ने कहा कि दुनिया भर में ऐसे पुरुष हैं जो बांझपन से प्रभावित हैं अपनी जीवनशैली में बदलाव करके, शारीरिक व्यायाम से, मनोवैज्ञानिक सहायता लेकर और पोषक तत्वों की कमी को पूरा करके संतान सुख की प्राप्ति की संभावना में बढ़ोत्तरी की जा सकती है। अधिक जानकारी के लिए विर्क फर्टिलिटी सर्विसिज जालंधर के विशेषज्ञों से संपर्क किया जा सकता है।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)