KMV ने शहीद-ए-आज़म स: भगत सिंह को उनकी 115वीं जयंती पर दी श्रद्धांजलि - News 360 Broadcast
KMV ने शहीद-ए-आज़म स: भगत सिंह को उनकी 115वीं जयंती पर दी श्रद्धांजलि

KMV ने शहीद-ए-आज़म स: भगत सिंह को उनकी 115वीं जयंती पर दी श्रद्धांजलि

Listen to this article

आयोजित हुई विभिन्न गतिविधियां एवं कॉलेज में स्थापित शहीद भगत सिंह विरासत स्मारक पर अर्पित की गई पुष्पांजलि

न्यूज़ 360 ब्रॉडकास्ट (एजुकेशन न्यूज़) भारत की विरासत एवं ऑटोनॉमस संस्था, कन्या महा विद्यालय, जालंधर के द्वारा देश के महान नायक शहीद-ए- आज़म स: भगत सिंह की 115वीं जयंती के अवसर पर उन्हें याद करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इस दिवस को मुख्य रखते हुए विद्यालय के द्वारा विभिन्न गतिविधियों का आयोजन करवाया गया। इसके अंतर्गत कॉलेज के इतिहास विभाग एवं के.एम.वी. कॉलेजिएट सीनियर सेकेंडरी स्कूल के द्वारा पॉइटिकल सिंपोज़ियम आयोजित करवा कर देश के इस महान नायक को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इस अवसर पर विद्यालय प्रिंसिपल प्रो. अतिमा शर्मा द्विवेदी ने फैकल्टी सदस्यों एवं छात्राओं सहित विद्यालय में स्थापित शहीद भगत सिंह जी के विरासत मेमोरियल पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। इस अवसर पर संबोधित होते हुए जहां उन्होंने शहीद भगत सिंह जी की महानता के प्रति अपने आप को ऋणी बताया वहीं साथ ही कहा कि उनकी दिलेरी भरी कुर्बानी ने देश के अनगिनत लोगों में देश भक्ति का दीपक जलाया और देश के विकास के लिए हमें सदा ऐसेआदर्शों की ज़रूरत है। आगे बात करते हुए उन्होंने कहा कि यह बेहद गर्व का विषय है कि कन्या महाविद्यालय का भगत सिंह के साथ नज़दीकी संबंध है क्योंकि वह के.एम.वी. के तत्कालीन प्रिंसिपल आचार्या लज्जावती जी के बेहद नज़दीक थे और देश आज़ादी के संघर्षके दौरान कन्या महाविद्यालय में शरण भी लेते थे। इसके अलावा उन्होंने बताया कि सरदार भगत सिंह को श्रद्धांजलि के चिन्ह के रूप में और उनके साथ नज़दीकी संबंध होने के कारण विद्यालय के हॉस्टल में एक विरासत मेमोरियल का निर्माण भी करवाया गया है। कन्या महा विद्यालय एक राष्ट्रवादी संस्था है जिसके द्वारा स्वतंत्रता संग्राम में सरगरम तौर पर भूमिका अदा की गई है क्योंकि यहां की छात्राएं स्वतंत्रता संग्राम में शामिल होने वाली देश की पहली महिलाओं में से एक थ। उन्होंने आगे बताया कि भगत सिंह जी के आदर्शवाद एवं उनकी कुर्बानी ने उन्हें एक महान नायक और बहुत सारे लोगों के लिए प्रेरणा का बेहद विशाल स्रोत बनाया। इसके साथ ही डॉ. द्विवेदी ने समूह छात्राओं को भगत सिंह जी के जीवन एवं फलसफे को धारण करते हुए देश के भविष्य को संवारने में अपना बढ़-चढ़ कर योगदान देने के लिए भी प्रेरित किया। उल्लेखनीय है कि इस सिंपोज़ियम के दौरान विद्यालय के पोस्टग्रेजुएट डिपार्टमेंट ऑफ मैथमेटिक्स के द्वारा भाषण, कविता, गीत एवंनृत्य के द्वारा स.भगत सिंह जी को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। छात्रा अमनप्रीत कौर ने जहां भगत सिंह जी की विचारधारा के बारे में सभी को अवगत करवाया वहीं साथ ही वजिंदर कौर ने इस इंकलाबी नायक के इतिहास को दर्शाती हुई कविता भी पेश की। इसके साथ ही मुस्कान डोगरा ने भगत सिंह जी की शान में गीत गाया और निमांशी ने नृत्य प्रदर्शन कर अपनी देश के प्रति भावनाओं को पेश किया। इसके अलावा इस अवसर पर निबंध लेखन प्रतियोगिता का भी आयोजन करवाया गया। जिसमें विद्यालय के विभिन्न विभागों की छात्राओं ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हुए भगत सिंह जी के जीवन एवं क्रांतिकारी सोच एवं देशभक्ति को बाखूबी कलमबद्ध किया। इसी श्रंखला में छात्राओं के द्वारा भगत सिंह शीर्षक के अंतर्गत खेले गए नाटक के द्वारा भी भगत सिंह की सोच एवं देश की आज़ादी के लिए उनकी कुर्बानी के साथ स्वतंत्रता संग्राम में आए जोश को बाखूबी मंच पर प्रदर्शित किया गया। इसके साथ ही जहां लोगों को सेहतयाब जीवन जीने के लिए साइकिल के उपयोग के महत्व को समझाने के लिए विद्यालय प्रिंसिपल प्रो. अतिमा शर्मा द्विवेदी के द्वारा साइकिल रैली को हरी झंडी दी गई वहीं साथ ही गतिविधियों की इस श्रृंखला में दो एक्सपोर्ट टॉकस का भी आयोजन करवाया गया जिनमें डॉ. मोनिका शर्मा, डायरेक्टर, गांधियन स्टडीज़ सेंटरएवं डॉ. एकता सैनी फिलॉसफी विभाग के द्वारा भगत सिंह जी की विचारधारा के विभिन्न पहलुओं को अपने शब्दों के द्वारा बयान किया गया। डॉ. मोनिका ने इस अवसर पर संबोधित होते हुए कहा कि शहीद भगत सिंह जी की विचारधारा इस तथ्य को दोहराती है कि भारत के नौजवान अभी भी उनसे बहुत सारी प्रेरणा ले रहे हैं। दूसरे वक्ता डॉ. एकता ने भगत सिंह जी के फलसफे एवं प्रेरणा स्रोतों के बारे में विस्तार से बात की. उल्लेखनीय है कि कन्या महा विद्यालय की 100 छात्राओं ने जिला प्रशासन, जालंधर के द्वारा आयोजित मैराथन में भी भाग लिया और 50 छात्राओं ने भगत सिंह जी के जीवन पर आधारित दस्तावेज़ी फिल्म की विशेष स्क्रीनिंग देखने के लिए जंग-ए- आज़ादी म्यूज़ियम, करतारपुरका भी दौरा किया। मैडम प्रिंसिपल ने इतिहास विभाग अध्यक्षा डॉ. गुरजोत कौर, श्रीमती वीना दीपक, डॉ. सुमन ख़ुराना, डॉ. रूपिका एवं डॉ. देवेंद्र सिंह के साथ-साथ समूह आयोजक मंडल के द्वारा इन गतिविधियों के सफल आयोजन के लिए किए गए प्रयासों की भी भरपूर प्रशंसा की।

 

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)