KMV में जेनेटिक काउंसलिंग एंड जॉब अपॉर्चुनिटीका इन इंडिया विषय पर एक दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन - News 360 Broadcast
KMV में जेनेटिक काउंसलिंग एंड जॉब अपॉर्चुनिटीका इन इंडिया विषय पर एक दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन

KMV में जेनेटिक काउंसलिंग एंड जॉब अपॉर्चुनिटीका इन इंडिया विषय पर एक दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन

Listen to this article

जालंधर: भारत की विरासत एवं ऑटोनॉमस संस्था, कन्या महाविद्यालय, जालंधर के बायोटेक्नोलॉजी विभाग के द्वारा इंस्टीट्यूशंस इनोवेशन काउंसिल के साथ मिलकर जेनेटिक काउंसलिंग एंड जॉब अपॉर्चुनिटीका इन इंडिया विषय पर एक दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन करवाया गया। श्रीमती दीप्ति चौधरी, जेनेटिक काउंसलर, लाइफ सेल इंटरनेशनल, उत्तर काोन ने इस वर्कशॉप में बतौर स्रोत वक्ता शिरकत की।

छात्राओं से संबोधित होते हुए श्रीमती दीप्ति चौधरी ने जहां विषय को विस्तार सहित परिभाषित किया वहीं साथ ही ऑटोसोमल डोमिनेंट, ऑटोसोमल रिसेसिव, एक्स लिंक्ड रिसेसिव डिसऑर्डर आदि का किाक्र करने के साथ-साथ जेनेटिक विकारों की श्रेणियों के बारे में भी बात की। इसके अलावा उन्होंने आम विकारों, हाइपरटेंशन, गाउट, डायबिटीका मेलेटस, सिजोफ्रेनिया, दिल की बीमारियां आदि के बारे में बताने के साथ-साथ सेहतमंद जीवन के लिए साधारण कैरियोटाइप के महत्व को भी बयान किया। उन्होंने क्रोमोसोमल असाधारणताओं के द्वारा गर्भावस्था के दौरान पैदा की जाती समस्याओं के बारे में जानकारी देते हुए डाउन सिंड्रोम एवं एडवर्ड सिंड्रोम आदि के बारे में भी चर्चा की।

इसके साथ ही उन्होंने जेनेटिक काउंसलिंग के मुख्य उद्देश्य को परिभाषित करते हुए कहा कि जेनेटिक विकारों के बारे में पूरी एवं सही जानकारी प्रदान करना जिसमें पारिवारिक सदस्यों द्वारा फैसले को उत्साहित किया जाता है, इलाज एवं पूर्व अनुमान के लिए उपलब्ध परिवारों के विकल्पों को स्पष्ट करना एवं जेनेटिक विकारों के जोखिम को कम करने के लिए जानकारी फैलाने आदि जैसे काम काउंसलिंग के दौरान पूरी शिद्दत के साथ किए जाते हैं। जेनेटिक काउंसलर के साथ जान-पहचान करवातेहुए उन्होंने किसी भी व्यक्ति की पारिवारिक गोपनीयता को बरकरार रखने, सथाई संचार प्रवाह को चलाने आदि जैसी अपने नैतिक जिम्मेदारियों की ओर भी ध्यान केंद्रित किया और साथ ही अपने तथ्यों को उदाहरणों के साथ समझाने के लिए वीडियोस भी सांझा की।

जेनेटिक काउंसलिंग के क्षेत्र में रोकागार के अवसरों के प्रति छात्राओं को उत्साहित करते हुए उन्होंने बताया कि यह क्षेत्र ना केवल उज्जवल भविष्य में मददगार है बल्कि समाज के लिए भी यह एक नेक कार्य है। सेशन के अंत में उन्होंने छात्राओं के द्वारा पूछे गए विभिन्न सवालों के जवाब भी बेहद सरल ढंग से दिए। इस प्रोग्राम के द्वारा छात्राओं को विषय की महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने के लिए विद्यालय प्रिंसीपल प्रो. अतिमा शर्मा द्विवेदी ने श्रीमती दीप्ति के प्रति आभार व्यक्त किया और साथ ही इस सफल आयोजन के लिए बायोटेक्नोलॉजी विभाग के द्वारा किए गए प्रयत्नों की भी प्रशंसा की।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)