जल ही जीवन है जल के बिना जीना असंभव - News 360 Broadcast
जल ही जीवन है जल के बिना जीना असंभव

जल ही जीवन है जल के बिना जीना असंभव

Listen to this article

जल ही जीवन है इस के बिना जीने की कल्पना भी नहीं कर सकते। जल हमारे रोजमर्रा जिंदगी के लिए अनिवार्य है। जल सिर्फ मनुष्यों के लिए ही नहीं अपितु पूरी प्रकृति को संचालित करने के लिए आवश्यक है। इस धरती पर रहने वाले प्रत्येक जीव को जल की आवश्यकता है। फिर चाहे वह मनुष्य हो ,जीव-जंतु हो या पौधे हो। प्रत्येक के लिए जल बहुत महत्वपूर्ण है। यदि हम मनुष्य की बात करें तो उसका 72% शरीर जल से ही बना होता है। यदि मनुष्य में 1% भी चल की कमी हो तो मनुष्य को इतनी जोर से प्यास लगती है। यदि यही प्यास 10% हो जाए तो मनुष्य की तुरंत मौत हो सकती है। तो आप इससे ही अंदाजा लगा सकते हो कि जीव को जल की कितनी जरूरत है। जल उसके लिए कितना महत्व रखता है और इसी तरह ही पेड़ पौधों के लिए भी जल की उतनी ही आवश्यकता है, नहीं तो पेड़ पौधे सूख जाएंगे। एक पेड़ को जब जल प्राप्त होता है वह अपने लिए भोजन बनाता है। यह प्रकृति भी जल के बिना अपना अस्तित्व खो देती है।

जल का हमारे जीवन में महत्व

आज हम बात करेंगे कि हमारे जीवन में और ऐसी कोई भी चीज जो इस धरती पर है उसको जल की कितनी आवश्यकता है। हमारी रोजमर्रा की दिनचर्या जल से ही शुरू होती है। जब हम सुबह उठते हैं तो हाथ – मुंह धोने के लिए हमें जल की जरूरत पड़ती है, उसके बाद हमें नहाने के लिए भी जल की आवश्यकता है, नहाने के बाद हमें खाना पकाने के लिए भी जल की आवश्यकता है, ऑफिस जाने के लिए हमें गाड़ी को धोने के लिए भी जल की आवश्यकता है। इस धरती पर प्रत्येक जीव -जंतु को भी जल की उतनी ही आवश्यकता है जितनी की एक मनुष्य को। अगर हम अपने जीवत रहने की बात करें तो मनुष्य को अगर 10 दिन खाना ना मिले तो जीवत रह सकता है अगर 3 दिन तक पानी ना मिले तो 3 दिन वह पानी के बिना नहीं जी सकता। तो इससे आप समज सकते है कि जल हमारे लिए कितना महत्व रखता है।

जल प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है

वर्तमान समय में जल प्रदूषण लगातार बढ़ता ही जा रहा है। लोग अपने घरों का कचरा नदियों व तालाबों में डाल देते हैं जिससे जल के स्त्रोत प्रदूषित हो रहे हैं। घरों का कचरा नदियों में डालने से पानी में बदबू आने लगती है। कारखानों से निकलने वाला गंदा पानी भी नदियों में ही डाल दिया जाता है कई लोग अपने पालतू जानवरों को भी नदियों में ही नेहला देते हैं। कई बार जब पानी कई जगहों पर इकट्ठा हो जाता है,उसको निकलने के लिए कोई भी रास्ता नहीं मिल पाता , तो उस पानी में से भी बदबू आने लगती है तो उसमे कई तरह के कीटाणु पैदा हो जाते हैं। आज मनुष्य जल के महत्व को भूल कर उसको दुरुपयोग कर रहा है घरों में आवश्यकता से अधिक जल का उपयोग किया जाता है। कई जगह लोग जल का दुरुपयोग करते हैं और देश में ऐसी भी कई जगह है जहां पर लोगों को पीने के पानी नहीं मिलता और उनको कई किलोमीटर दूर पैदल चलकर जाना पड़ता है तब जाकर उनको पिने के लिए पानी नसीब होता है।

जल को कैसे बचाएं

हम सभी का कर्तव्य बनता है कि हमें जल के प्रति जागरूक होने की आवश्यकता है। सबसे पहले जल को बचाने के लिए हमें अपने घर से ही यह मुहीम शुरु करनी होगी। अगर हम छोटी छोटी बातों को अपनी रोज़मर्रा की जिंदगी में अपना लें तो हम बहुत सारा पानी अपने आने वाले कल के लिए वचा सकते है। घर में उतने ही पानी का इस्तेमाल करें जितने की हमें आवश्यकता है,घर में कहीं भी नल को चलते हुए देखें तो उसको तुरंत बंद कर दें। नहाने के लिए हमें जितने पानी की ज़रूरत है। उतना ही पानी का इस्तेमाल करें , गाड़ी को पाइप से ना न धोकर बाल्टी में पानी डालकर उसका इस्तेमाल करना चाहिए। हमें पानी को वचाने के लिए , हमें नदियों और तालाबों को साफ करने की आवश्यकता है, हमें अपने घर का कचरा नदियों और तालाबों में ना डालकर उस कचरे को फेंकने के लिए उचित व्यवस्था बनानी चाहिए। अपने जानवरों को नदियों में नहीं नहलाना चाहिए। कारखानों से निकलने वाले गंदे पानी या कचरे की नदियों से दूर निकास की व्यवस्था करनी चाहिए। कहीं पर भी पानी को इकट्ठा नहीं होने देना चाहिए। हमें बारिश के पानी को इकट्ठा करना चाहिए और उसका उपयोग करना चाहिए हमें पेड़ों की कटाई को कम से कम करना होगा और अधिक से अधिक पेड़ पौधे लगाने चाहिए।

निष्कर्ष

जल हम सभी के लिए एक अमूल्य उपहार है। जिसका हम सभी को सोच समझकर ही उपयोग करना चाहिए। इस पृथ्वी के दो तिहाई भाग पर जल होने के बावजूद भी हमें पीने योग्य जल की समस्या है। क्योंकि संपूर्ण जल समुद्रों के रूप में मौजूद है जो कि खारा है पीने का पानी सीमित मात्रा में है। इसलिए पानी का हमें हमेशा सही उपयोग करना चाहिए। मनुष्य को जल के महत्व को समझना होगा , उसके प्रति जागरूक होना होगा और सभी लोगों को भी जागरूक करना होगा ताकि वह जल का सही उपयोग करें। हमें अपनी आने वाली पीढ़ी को इस समस्या से बचाने के लिए आज से ही जल के संरक्षण को महत्व देना होगा। सरकार को भी जल संरक्षण के लिए आवश्यक कदम उठाने की आवश्यकता है । सरकार को वर्षा के जल को सुरक्षित करने के कई उपाय अपनाने चाहिए , तभी जाकर हमें जल की समस्या से निजात प्राप्त हो पाएगा।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)