HMV कॉलेजिएट स्कूल में पंजाब स्टेट कौंसिल फार साइंस एंड टेक्नालोजी के सहयोग से कार्यशाला का आयोजन - News 360 Broadcast
HMV कॉलेजिएट स्कूल में पंजाब स्टेट कौंसिल फार साइंस एंड टेक्नालोजी के सहयोग से कार्यशाला का आयोजन

HMV कॉलेजिएट स्कूल में पंजाब स्टेट कौंसिल फार साइंस एंड टेक्नालोजी के सहयोग से कार्यशाला का आयोजन

Listen to this article

जालंधर: एच.एम.वी. कॉलेजिएट सीनियर सेकेंडरी स्कूल में प्राचार्या प्रो. डॉ. अजय सरीन के दिशा-निर्देश अधीन पंजाब स्टेट कौंसिल फार साइंस एंड टेक्नालोजी एवम विप्रो फाउंडेशन के सहयोग से अर्थीयन एजुकेटर्स अवार्ड प्रोग्राम विषय पर कैपेसिटी बिल्डिंग कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला का शुभारंभ ज्ञान की ज्योति प्रज्ज्वलित कर किया गया।

इस अवसर पर प्राचार्या डॉ अजय सरीन ने पंजाब स्टेट कौंसिल की ओर से उपस्थित मुख्यातिथि डॉ. के.एस. बाठ, ज्वाइंट डायरेक्टर, डॉ. मंदाकिनी, साइंटिफिक ऑफिसर एवं श्री आशीष शाह, एक्सपर्ट फरॉम विप्रो फाउंडेशन और सभी प्रतिभागियों का तहे दिल से हार्दिक अभिनंदन किया एवं कहा कि आप सभी इस कार्यशाला से अवश्य ज्ञान अर्जित करके अन्य राज्य के शिक्षकों को भी प्राप्त ज्ञान से लाभान्वित
करवाएंगे। उन्होंने कहा कि हंसराज महिला महाविद्यालय परिसर में पर्यावरण संरक्षण को देखते हुए पेपर रिसाइक्लिंग मशीन, आर्गेनिक मेनयूर एवं वेस्ट मैटीरियल मेनयूर मशीन की स्थापना की गई है।

अंत में उन्होंने कहा कि हमारी संस्था हमेशा से ही पर्यावरणीय हितों को ध्यान में रखते हुए हर मुहिम का हिस्सा रही है एवं भविष्य में भी पर्यावरण की रक्षा के लिए प्रयासरत रहेगी। मुख्यातिथि डॉ. के.एस. बाठ ने अपने संबोधन में कहा कि आज का युग नवोन्मेष का युग है और हमें हर क्षेत्र में उचित सुधार करके अपने आप एवं देश को समृद्ध एवं उन्नत बनाना चाहिए। उन्होंने जैव विविधता एवं ठोस अपशिष्ट प्रबंधन पर भी अपने ज्ञानवर्धक विचार शिक्षकों के साथ सांझा करते हुए कहा कि पृथ्वी पर विलुप्त होते जीव जंतुओं एवं वनस्पति को कैसे संरक्षित किया जा सकता है एवं आज के समय की सबसे भयानक समस्या ठोस (कचरा) अपशिष्ट जो कि एक वैश्विक समस्या है जो हमारे वातावरण, पर्यावरण एवं स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक हैं। उन्होंने कहा कि हमें पर्यावरण एवं स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाले बिना ठोस कचरे का उपचार, निस्तारण, पुन: उपयोग, पुन: चक्रण तथा ऊर्जा में परिवर्तन करने की प्रक्रियाओं के संचालन का प्रबंधन करना चाहिए।

मीनाक्षी स्याल, स्कूल कोआर्डिनेटर ने धन्यवाद ज्ञापन ज्ञापित करते हुए कहा कि हमारी संस्था पहले से ही इस मुहिम के नक्शे कदम पर चलते हुए छात्राओं के अथक प्रयासों से कॉलेजिएट सैक्शन में खूबसूरत इको-पार्क का निर्माण किया गया है। इस कार्यशाला में 50 स्कूलों के शिक्षकों ने प्रतिभागिता की। मंच संचालन सुश्री सुकृति ने किया।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)