KMV द्वारा जेंडर इश्यूज़ के प्रति जागरूकता पैदा करता सफलतापूर्वक चलाया जा रहा है जेंडर सेन्सीटाइज़ेशन प्रोग्राम - News 360 Broadcast
KMV द्वारा जेंडर इश्यूज़ के प्रति जागरूकता पैदा करता सफलतापूर्वक चलाया जा रहा है जेंडर सेन्सीटाइज़ेशन प्रोग्राम

KMV द्वारा जेंडर इश्यूज़ के प्रति जागरूकता पैदा करता सफलतापूर्वक चलाया जा रहा है जेंडर सेन्सीटाइज़ेशन प्रोग्राम

Listen to this article

न्यूज़ 360 ब्रॉडकास्ट (एजुकेशन न्यूज़ ,जालंधर ): Gender Sensitization Program being successfully run by KMV to create awareness about gender issues : भारत की विरासत एवं ऑटोनॉमस संस्था, कन्या महा विद्यालय,जालंधर के द्वारा लैंगिक मुद्दों के संबंध में जागरूकता पैदा करने के मकसद के साथ विशेष वैल्यू ऐडेड प्रोग्राम जेंडर सेन्सीटाइज़ेशन शुरू किया गया है। के.एम.वी. क्षेत्र की पहली और एकमात्र संस्था है जिसके द्वारा अंडर ग्रेजुएट स्तर पर सेमेस्टर तीसरा की छात्राओं के लिए वैल्यू ऐडेड प्रोग्राम के रूप में इस कार्यक्रम को अपने पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है। इस प्रोग्राम का उद्देश्य लैंगिक भूमिकाओं और जिम्मेदारियों के प्रति दृष्टिकोण और व्यवहार को सकारात्मक रूप से बदलने के लिए लैंगिक परिप्रेक्ष्य विकसित करना है। विद्यालय प्रिंसिपल प्रो. अतिमा शर्मा द्विवेदी, जो हाशियागत श्रेणी की महिलाओं और लोगों के उत्थान के लिए पूर्ण गंभीरता के साथ प्रतिबद्ध हैं, इस विशेष प्रोग्राम के मुख्य प्रेरक हैं। उल्लेखनीय है कि इस प्रोग्राम को तीन मॉड्यूलस में बांटा गया है। पहले मॉड्यूल में कॉलेज की वरिष्ठ और अनुभवी फैकल्टी, शहर के प्रसिद्ध डॉक्टरों और वकीलों के द्वारा विभिन्न प्रचलित लैंगिक मुद्दों पर व्याख्यान की एक श्रृंखला शामिल है। अगला महत्वपूर्ण मॉड्यूल ओपन हाउस सत्र है, जिसकी अध्यक्षता प्राचार्या प्रो. अतिमा शर्मा द्विवेदी, डायरेक्टर, विमेन स्टडीज़ सेंटर के द्वारा की जाती है। यह मड्यूल छात्राओं को लैंगिक मुद्दों पर अपने विचार एवं अनुभव साझा करने के लिए एक मंच भी प्रदान करता है। तीसरे महत्वपूर्ण मड्यूल के अंतर्गत छात्राओं को विशेषज्ञों द्वारा सेल्फ डिफेंस तकनीकों पर वर्कशॉप आयोजित कर आत्मरक्षा की सिखलाई प्रदान की जाती है ताकि वह किसी भी आपात स्थिति में खुद का बचाव करना सीख सकें। इस वर्कशॉप का उद्देश्य छात्राओं में आत्मविश्वास पैदा करते हुए उन्हें आत्मनिर्भर और आत्मविश्वासी बनाना है। यह कार्यक्रम एक ऐसे माहौल के सृजन में मदद करता है जो लैंगिक समानता को बढ़ावा देता है। प्राचार्या प्रो. अतिमा शर्मा द्विवेदी ने कहा कि पुरुषों और महिलाओं दोनों को लैंगिक मुद्दों के प्रति संवेदनशील होने की ज़रूरत है ताकि वह समान अवसरों की कमी, दहेज, शारीरिक और मानसिक हिंसा जैसे विभिन्न सामाजिक मुद्दों के खिलाफ आवाज़ उठा सकें। इसके साथ ही मैडम प्रिंसिपल ने श्रीमती अमर प्रीत खुराना, कोऑर्डिनेटर, विमेन स्टडीज़ सेंटर के द्वारा इस प्रोग्राम को सफलतापूर्वक चलाने के लिए किए जा रहे हैं प्रयत्नों की भी प्रशंसा की.

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)