लिवर से सम्बन्धित बीमारियों का इलाज करने की जागरूकता के लिए मनाया जाता है ‘विश्व लिवर दिवस’

लिवर से सम्बन्धित बीमारियों का इलाज करने की जागरूकता के लिए मनाया जाता है ‘विश्व लिवर दिवस’

19 अप्रैल विश्व लीवर दिवस के मौके पर पटेल हस्पताल में मुफ़्त जांच चैकअप कैम्प का आयोजन

स्वास्थ्य डेस्क: विश्व लीवर दिवस विश्व भर में 19 अप्रैल को लीवर से सम्बन्धित बीमारियों की जांच करने और उन बीमारियों का इलाज करने की जागरूकता के लिए मनाया जाता है लीवर सम्बन्धित बीमारियों की किस्मे, लक्षण और जांच:

1. लीवर की कौन कौन सी बीमारियाँ होती हैं यां कौन सी बीमारियाँ लीवर को नुक्सान पहुँचा सकतीं हैं।

2. आपको यां आपके परिवार के किसी मैंबर को लीवर की कोई बीमारी है जा नहीं इस का कैसे पता लगाया जा सकता है।

3. यदि मुझे लीवर की बीमारी है और वह मेरे लिए किस हद तक हानिकारक है और उसकी स्टेज कौन सी है?

लीवर की कौन सी बीमारियाँ होती हैं जा कौन सी बीमारियाँ लीवर को नुक्सान पहुँचा सकतीं हैं:

लीवर को नुक्सान पहुँचाने के लिए फेटटी लीवर सब से अधिक हानिकारक है इस के साथ लीवर सिरोसिस (लीवर का ख़त्म होना) भी हो सकता है। काला पीलिया हैपेटायटस बी और हैपेटायटस सी विश्व में सब से अधिक भारत में फैला हुआ है हैपेटायटस बी और हैपेटायटस सी का पता जब तक मरीज़ का टैस्ट न किया जाये तब तक इस का पता नहीं लगाया जा सकता। विश्व लीवर दिवस के मौके पर मुफ़्त हैपेटायटस बी और हैपेटायटस सी टैस्ट किये जाते हैं ता जो इन बीमारियों का पता लगाया जा सके |अलकोहलीक लीवर डिसीस (शराब पीने के कारण लीवर को पहुँचने वाले नुक्सान) से बचाव के लिए हमें मरीज़ को शराब पीने से रोकना चाहिए इस के लिए मरीज़ को कुछ दवाइयां दे कर शराब पीने से रोका जा सकता है उस के बाद शराब पीने कारण ख़राब हुए लीवर का इलाज किया जाता है |

आपको यां आपके परिवार के किसी मैंबर को लीवर की कोई बीमारी है जा नहीं इस का कैसे पता लगाया जा सकता है?
लीवर की बीमारी का पता करन के लिए हमें कुछ टैस्ट जैसे कि ऐस्स.जी.ओ.टी, ऐस्स.जी.पी.टी, हैपेटायटस बी और हैपेटायटस सी आदि टैस्ट समय पर करवाने चाहिएं |लिपीड प्रोफाइल टैस्ट द्वारा फेटटी लीवर का और अल्ट्रासाउंड द्वारा लीवर पर चिपकी चर्बी का पता लगाया जा सकता है |

19 अप्रैल विश्व लीवर दिवस के मौके पर पटेल हस्पताल में मुफ़्त जांच चैकअप कैम्प का आयोजन किया जा रहा हैं |कैम्प में चैकअप करवाने वाले मरीज़ों को मुफ़्त डाक्टरी सलाह, मुफ़्त हैपेटायटस बी, मुफ़्त हैपेटायटस सी, मुफ़्त फैटी लीवर स्क्रीनिंग, शराब का सेवन करने से ख़राब हुए लीवर सम्बन्दी मुफ़्त डाक्टरी सलाह और फाईब्रोसकैन पर 50% की छूट दी जाएगी इन टैस्टें द्वारा लीवर के साथ सम्बन्धित बीमारियाँ का पता लगाया जा सकता है |

यदि मुझे लीवर की बीमारी है और वह मेरे लिए किस हद तक हानिकारक है और उसकी स्टेज कौन सी है?

फेटटी लीवर कई किस्म का होता है नोर्मल् फेटटी लीवर में लीवर पर चर्बी जमा हो जाती है अपने खाने -पीने पर ध्यान देने और कसरत करन के साथ उसे सही किया जा सकता है। दूसरी स्टेज ऐन.ए.ऐस.ऐच ( नौंन अलकोहलीक स्टेट ओफ हैपेटायटस) इस स्टेज में लीवर पर जमा हुई चर्बी लीवर को गर्म करना शुरू कर देती है इस स्टेज में ऐस्स.जी.ओ.टी, ऐस्स.जी.पी.टी, टैस्ट करवाने और इन की मात्रा बढ़ी होती है |तीसरी स्टेज लीवर सिरोसिस होती है जो कि लीवर को पूरी तरह ख़त्म कर देती है |इस स्टेज में यदि मरीज़ का समय पर इलाज न किया जाये तो पेट में पानी भरना शुरू हो जाता है ख़ून की उलटा आ सकतीं हैं, लीवर कैंसर हो सकता है और मरीज़ बेहोश हालत में भी पहुँच सकता है |इस स्टेज में मरीज़ का लीवर ट्रांसपलांट करके उस की जान बचायी जा सकती है |

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)